“पानी की बात” मुहिम हुई लांच, टीम करेगी लोगों से ‘जल संवाद’।

Spread Awarness

देश में लगातार गिर रहे भूगर्भ जल की स्थिति चिंताजनक है, यदि इस विषय को गंभीरता से नहीं लिया तो भविष्य में पानी की एक एक बूंद के लिए हमें तरसना पड़ सकता है। ऐसी स्थिति उत्पन्न ना हो, इसलिए एनवायरमेंट क्लब समय समय पर लोगों को ‘जल संरक्षण’ हेतु जागरुक करता है।

क्लब ने पूर्व में चलाया था ‘बिन पानी सब सून’ अभियान।

वर्ष 2020 में “बिन पानी सब सून” अभियान चला टीम ने आमजन को पानी की हर एक बूंद को बचाने के लिए प्रेरित किया। इसी क्रम में 24 जनवरी 2021 को क्लब की ओर से गांव खड़ौली, रोहटा रोड़, मेरठ में “पानी की बात” मुहिम का शुभारंभ किया गया, जिसके तहत गांव में जल चौपाल लगाकर ग्रामीणों से ‘जल संवाद’ कर उन्हें जल संरक्षण के लिए प्रेरित किया। इस मौके पर ग्रामीणों को आमंत्रित कर उन्हें पानी की महत्वता समझाई और बताया कि पानी को बचाना क्यों जरूरी है! इस मुहिम को शुरू करने का यही उद्देश्य है, कि लोग पर्यावरण के इस अभिन्न अंग ‘पानी’ को बचाना सीखें। क्लब के संस्थापक – सावन कनौजिया ने “जल चौपाल” में कहा की पौराणिक काल से ही प्रकृति के संरक्षण की रीत है और पानी को बचाने की बातें आज से नहीं कई हजार वर्ष पहले से होती आई हैं। प्रकृति की अमूल्य देन ‘पानी’ को हम आज इस कद्र बहा रहे हैं, कि हमारे देश के कई बड़े शहरों में जल संकट उभर कर आ रहा है। और कहा कि जल को बचाना अत्यंत आवश्यक है, क्योंकि जल नहीं होगा तो हमारा आने वाला कल नहीं होगा। उन्होंने ‘हर घर बचाना है जल’ बात पर जोर देते हुए कहा कि जिस प्रकार धन को हम कमा रहे हैं हमारे आने वाली पीढ़ियां कामाएंगी, धन आता रहेगा जाता रहेगा लेकिन यदि पानी एक बार चला गया तो यह वापस नहीं आएगा।

‘पानी की बात’ मुहिम के तहत “जल चौपाल” गांव खड़ौली, मेरठ में।

पानी की धन से तुलना कर उन्होंने पानी को धन से भी बढ़कर बताया। ग्रामीणों को कुछ बिंदु गिना कर उन्हें समझाया कि किस प्रकार वे अपनी दैनिक गतिविधियों में पानी को बचा सकते हैं। क्लब की टीम की ओर से ग्रामीणों को पानी की प्रत्येक बूंद को बचाने का आह्वान किया गया। दिल्ली विश्वविद्यालय के लियो क्लब, शिवम साइकिल स्टोर मेरठ और द पॉपुलर इंडियन की ओर से क्लब की इस मुहिम को समर्थन दिया जा रहा है। मुहिम के शुभारंभ पर लोगों को यह बताया गया की स्वच्छ पेयजल को बहाते हुए यदि किसी को पकड़ा गया, तो जल शक्ति मंत्रालय की ओर से उसे 5 साल की जेल का प्रावधान भी किया गया है। टीम ने लोगों से कहा कि आज समय है जब हम पानी को बचा सकते हैं क्योंकि आने वाली पीढ़ियों के लिए और सुरक्षित भविष्य के लिए इसे बचाना अत्यंत आवश्यक है, इसके बिना जीवन ही संभव नहीं है। जल संवाद के पश्चात् सभी ने जल संरक्षण की शपथ ली और यह प्रण किया किया कि वे पानी की हर एक बूंद को बचाने के लिए प्रयास करेंगे और अन्य लोगों को भी इसके लिए प्रेरित व जागरूक करेंगे।

आप भी लें “पानी बचाने” की शपथ, बनिए इस मुहिम का हिस्सा।

क्लब की आधिकारिक वेबसाइट पर ‘पानी की बात’ नाम के पेज पर जाकर लोग ऑनलाइन भी जल संरक्षण की शपथ ले सकते हैं। टीम ने अपील करी कि जो लोग हमसे ऑफलाइन कार्यक्रमों में नहीं जुड़ सकते वें ऑनलाइन भी वेबसाइट पर जाकर ‘जल संरक्षण’ हेतु शपथ लेकर इस मुहिम से जुड़ सकते हैं।